Skip to main content

हथेली पर ये पांच निशान दिखाते हैं धनाढ्य योग

हस्तरेखा विशेषज्ञों की माने तो हमारे जीवन की सभी छोटी-बड़ी घटनाएं एवं हानि-लाभ आदि हस्तरेखाओं द्वारा देखा जा सकता है| कहते हैं कि हमारे मष्तिष्क से उत्पन्न होने वाली तरंगे, सूक्ष्म नाड़ियों द्वारा हमारे हाथ एवं पैर की हथेलियों और तलवों में बहुत बारीक रेखाओं एवं चिन्हों का निर्माण करती रहती हैं| इस प्रकार ये रेखाएं हमारे भूत, वर्तमान और भविष्य में होने वाली घटनाओं को दर्शाती हैं| परन्तु इन संकेतों को एक हस्तरेखा विद्वान ही देख एवं समझ सकता है|

आइये बात करते हैं, ऐसे ही पांच संकेतों को जो किसी मनुष्य के राजयोग को दर्शाती हैं -

1 . शनि रेखा (भाग्य रेखा) - यह रेखा मणिबंध से शुरू होकर ऊपर उँगलियों की और बढ़ती है| अपने पूर्ण रूप में ये रेखा अनामिका एवं मध्यमा ऊँगली के मध्य भाग तक जाती है| इसका सीधा, गहरा, बिना जंज़ीरों वाला और अटूट होना यह दर्शाता है कि उस व्यक्ति का भाग्य जीवन में उसका बहुत साथ देगा और वो एक संपन्न एवं धनी व्यक्ति होगा|




2. हथेली में त्रिकोण का निशान - यह त्रिकोण हथेली के मध्य में जीवन रेखा, मष्तिष्क रेखा और बुध रेखा के परस्पर एक दुसरे को काटने से बनता है| ऐसे व्यक्ति के पास अचल संपत्ति एवं पैतृक संपत्ति का मालिकाना हक़ होता है|



3. हथेली में M का निशान - यह निशान बहुत काम लोगों की हथेली में पाया जाता है| इस निशान का निर्माण चार रेखाओं से मिलकर होता है| ये चार रेखाएं हैं - हृदय रेखा, मष्तिष्क रेखा, जीवन रेखा और भाग्य रेखा| इस निशान से धनी व्यक्ति को जीवन में 40 वर्ष के उपरान्त भरपूर धन एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है|




4. हथेली के मध्य में गहरा गड्ढा - जिस व्यक्ति की हथेली का मध्य भाग सपाट होता होता है, उसके पास धन नहीं टिकता और उसे सदैव धन की किल्लत रहती है| वहीँ जिस व्यक्ति के हथेली का मध्य भाग दबा हुआ एवं गहरा होता है (यानी अगर हथेली के मध्य में थोड़ा पानी रखें तो पानी वहां टिका रहे), उसके पास सदैव लक्ष्मी जी का वास होता है और वो समृद्धशाली और भाग्यवान होता है|



5. सूर्य और मष्तिष्क रेखा का मिलन - जिस व्यक्ति के हाथ में सूर्य रेखा उसकी मष्तिष्क रेखा से मिलती हो, ऐसे व्यक्ति को राजा के समान यश, ऐश्वर्य एवं प्रसिद्धि मिलती है| ऐसे व्यक्ति के जीवन में किसी भी प्रकार की कमी नहीं रहती और वो सभी प्रकार के सुखों का उपभोग करता है|



अगर आपके हाथ में भी ऊपर दिए गए एक या अधिक निशान हैं तो यकीन मानिये आपके जीवन में लक्ष्मी जी की कृपा सदैव बनी रहेगी|

Comments

Popular posts from this blog

10 Effective Vastu Remedies for Toilet in North East Direction (No Demolition)

Vastu Remedy for Toilet in North-East Having a toilet in the North East direction of the house is a major Vastu Dosha. It is the corner of the worship and head of the Vastu Purush. Scientifically, magnetic energy coming from this gets contaminated when we make a toilet in this zone.


Bad Effects of Toilet in the North-East direction -  Staying for a long time in a house which has a toilet in the North-east direction may lead to the following problems:  - Lack of Mental Clarity,  - Mental Heaviness & Cloudiness,  - Confused - Lack of Happiness - Anxiety - Financial Problems - Paralysis - Uninvited Troubles & Worries - Depression - Accidents - Major Surgery - Heart Problems - Diseases like Cancer

10 Effective Vastu Remedies for Toilet in North East Direction (No Demolition) -  1. Place a Quartz Crystal Rock near the toilet seat.

2. Place a glass bowl or crystal bowl full of Sea Salt inside the North East toilet and change the Salt every week.
3. Take a long panch-dhatu wire and …

Vastu and Seven Horses Painting – Most effective remedy for Success in Business, Wealth and Career

Vastu & the Seven running horses Painting The Seven horses painting is a very effective remedy in Vastu Shastra and Feng Shui, for people who want substantial growth in their business, finance, and career. As per Vastu, hanging this painting in your home or office space in the right direction brings desired results and success. As per Feng Shui, each element in this painting is the key to abundant wealth & prosperity.

Let’s understand what makes this painting so special and effective.

Every painting tells a story, which has a psychological effect on our mind (positive or negative) depending upon the colors, elements, and expression of that painting. It is that psychological effect which plays a very important role in evoking a certain type of emotion and urge, every time one looks at that painting. That is why it is very important to choose the apt painting for a specific purpose. In Vastu Shastra and Feng Shui, paintings are also used as effective remedies.
The Seven horses …

The Basics of Face Reading

Your face can reveal more about you than you think. Face reading is also known as Physiognomy. The centuries-old esoteric practice with roots from China, Greece, and India is still widely practised today. Through familiarization with the basics of face reading, you can start to know more about yourself, your family and friends, and even the new people you meet.

Curious to know more? Below are the distinct areas of the face and what each represents.
Face Shape It all begins here. The shape of a person’s face tells about their overall character. For instance, round-faced people are thought to be emotional, sensitive, and caring while those with a square face are athletic, analytical, and aggressive.
Areas of the Face The face has different areas that correspond to specific life events, relationships, and personal qualities.
Left: Tells about your temperament and outlook. You may also peer into the status of your relationship with your friends on this side.Right: Tells about your emotion…